Amazing World

आदर्श बहु चाहिए तो भोपाल जाइये

आदर्श बहु चाहिए तो भोपाल जाइये

अक्सर जब भी लड़के वाले शादी के लिए लड़की देखने के लिए जाते हैं तो उनसे पूछा जाता हैं की लड़की क्या - क्या कर लेती हैं. जैसे , खाना बनाना आता है या नहीं, सिलाई - कढ़ाई , घर का काम, पढाई इत्यादि . लेकिन अब शायद आने वाले समय में लड़की देखने के लिए जाते समय एक और सवाल पूछा करेंगे " क्या आपने आदर्श बहु बनने का शोर्टेरम कोर्स किया हैं ".  
 
आप लोगो ने आज तक दुनिया में अनेक प्रकार के कोर्सेज के बारे में सुना होगा. जैसे वकालत, वेब डिजाइनर, पत्रकारिता, प्रबंधन , इवेंट मैंनेजमेंट और  भी एक कोर्स . लेकिन अब शिक्षा की दुनिया में एक और कोर्स आ चुका हैं . जिसका नाम हैं "आदर्श बहू " कोर्स.  तो , यदि आपको अपने लाडले बेटे के लिए कोई आदर्श बहु चाहिए है तो इसके लिए आपको भोपाल आना होगा. जी हां भोपाल स्थित बरकतुल्लाह विश्वविद्यालय ने एक शॉर्ट टर्म कोर्स के जरिए आदर्श बहुएं तैयार करने के लिए कोर्स शुरू किया है. विश्वविद्यालय का मानना है कि यह कोर्स महिला सशक्तिकरण की दिशा में अगला कदम है.

वैसे आपको ज्ञात हो की बरकतुल्लाह विश्वविद्यालय बीते दिनों में खबरों में था . क्यूंकि इस विश्वविद्यालय को इतना भी ज्ञात नहीं था की हमें अपने  बीए के छात्रों की परीक्षा हिंदी में लेनी हैं या अंग्रेजी  में. 

बरकतुल्लाह यूनिवर्सिटी की तरफ से शुरू आदर्श बहु का यह कोर्स एक शार्ट टर्म कोर्स है .  इस  शॉर्ट टर्म कोर्स की अवधि तीन माह तक की होगी. इसे अगले शैक्षणिक सत्र से शुरू किया जाएगा. फ़िलहाल इस कोर्स के लिए फीस और छात्रा की शैशणिक योग्यता के बारे में कोई जानकारी नहीं दी गयी हैं.  एक ांग्रेसजी दैनिक अख़बार की खबर के अनुसार  विश्वविद्यालय  के वाइस चांसलर प्रोफेसर डीसी गुप्ता बताते हैं कि इस कोर्स का केवल एक ही उद्देश्य हैं जी की लड़कियों को जागरूक करना है, ताकि वे शादी के बाद बदले नए माहौल में आसानी से ढल सकें. वह कहते हैं एक विश्वविद्यालय होने के नाते हमारी समाज के प्रति जिम्मेदारी बनती है. हमारा मकसद समाज के लिए ऐसी बहुएं तैयार करना है जो परिवारों को जोड़कर रखें.
 प्रोफेसर गुप्ता ने इस कोर्स के बारे में बताते हुए कहा की  हम इसमें साइकोलॉजी, सोशियोलॉजी और ऐसे ही अन्य विषयों से जुड़े जरूरी टॉपिक को शामिल किया जाएगा. उन्होंने बताया इस कोर्स को शुरू करने के पीछे का मकसद बताते हुए प्रोफेसर गुप्ता ने बताया कि इसके बाद लड़की परिवार में होने वाले उतार-चढ़ाव को आसानी से समझ सके. इस शॉर्ट टर्म कोर्स के पहले बैच में 30 छात्राओं को प्रवेश दिया जाएगा. जो की 3  माह तक इस शार्ट टर्म कोर्स में शिक्षा लेंगी. एक बैच की अवधि ख़त्म होने तुरंत बाद ही अगला बैच तैयार रहेगा. 

फ़िलहाल इस कोर्स के बाद प्लेसमेंट के बारे में कोई जानकारी भी नहीं मिली हैं.