National

मायावती जी का अपमान मेरा अपमान, मिलकर बीजेपी को हराएंगे : सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव 

मायावती जी का अपमान मेरा अपमान, मिलकर बीजेपी को हराएंगे : सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव 

बसपा प्रमुख मायावती और सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने लोकसभा चुनाव के लिए गठबंधन का ऐलान कर दिया. गठबँघन का ऐलान करते हुए  मायावती ने कहा- ‘‘राज्य की 80 लोकसभा सीटों में से सपा और बसपा 38-38 सीटों पर चुनाव लड़ेंगी. अमेठी (राहुल गांधी की सीट) और रायबरेली (सोनिया गांधी की सीट) को हमने कांग्रेस से गठबंधन किए बिना ही उसके लिए छोड़ दिया है .

 गठबंधन के बाद अखिलेश यादव ने बसपा सुप्रीमो मायावती की तारीफ की. उन्होंने कहा कि इस गठबंधन के लिए मैं मायावती जी का धन्यवाद देना चाहता हूं. अगर आज हम साथ हैं तो इसका श्रेय मायावती जी को भी जाता है. अखिलेश यादव ने कहा कि मौजूदा बीजेपी की सरकार ने भगवान राम और श्रीकृष्ण के जन्म स्थान वाले राज्य में सांप्रदायिकता का माहौल पैदा कर दिया है. अस्पतालों में जाति पूछकर इलाज किया जा रहा है. फिलहाल जातिवाद का आलम यह है कि बीजेपी वाले अब भगवान को भी जाति में बांट रहे हैं. उन्होंने कहा कि गरीब और दलित की बहू-बेटियों की इज्जत तार-तार हो रही है. 

अखिलेश यादव ने कहा कि मैं पार्टी के सभी कार्यकर्ताओं से कहना चाहूंगा कि वह जिस तरह से आप मुझे सम्मान देते हैं उसी तरह से आप मायावती जी को भी सम्मान दें. अगर आप मायावती जी का अपमान करते हैं तो समझिएगा कि आप मेरा अपमान कर रहे हैं. साथ ही उन्होंने कहा कि भाजपा के अहंकार का विनाश करने के लिए सपा-बसपा का मिलना जरूरी था. उन्होंने कहा कि मैनें कहा था कि इस गठबंधन के लिए अगर दो कदम पीछे भी हटना पड़ा तो हम करेंगे. 

यादव ने कहा कि आज से सपा का कार्यकर्ता यह गांठ बांध ले कि मायावती जी का अपमान मेरा अपमान होगा. हम समाजवादी हैं औऱ समाजवादियों की विशेषता होती है कि हम दुख और सुख के साथी होते हैं. बीजेपी हमारे बीच गलतफहमी पैदा कर सकती है. बीजेपी द्वारा दंगा-फसाद भी कराया जा सकता है लेकिन हमें संयम और धैर्य से काम लेना है. मैं मायावती जी के इस निर्णय का स्वागत करता हूं. मैं आपको भरोसा दिलाता हूं कि अब बीजेपी का अन्त निश्चिचत है. गौरतलब है कि शनिवार को मायावती और अखिलेश यादव ने लखनऊ में एक साझा प्रेस कांफ्रेंस करके गठबंधन करने का ऐलान किया.

सपा अध्यक्ष ने कहा कि आगामी लोकसभा चुनाव में सपा और बीएसपी मिलकर बीजेपी को हराएंगे. यह गठबंधन केवल चुनाव के लिए नहीं बल्कि बीजेपी के अत्याचार से लड़ने के लिए है. उन्होंने सपा कार्यकर्ताओं से अपील की कि बीजेपी वाले उन्हें पैसे की ताकत दिखाकर बरगलाने की कोशिश करेंगे, लेकिन उन्हें एकजुट रहना है. उन्होंने कहा कि सपा कार्यकर्ता बीएसपी के कार्यकर्ताओं के साथ मिलकर बीजेपी को हराने के लिए काम करें.

अखिलेश यादव ने कहा कि इस गठबंधन की शुरुआत तभी से हो गई थी जब बीजेपी के कुछ नेताओं ने बीएसपी प्रमुख मायावती पर अशोभनीय टिप्पणी की थी. इसके बदले उन्हें दंडित करने के बजाय बीजेपी में ऊंचे पदों पर बैठा दिया. अखिलेश यादव ने सपा कार्यकर्ताओं से अपील की कि वे आज से जान लें कि मायावती की प्रतिष्ठा को बचाना उनकी जिम्मेदारी है.  उन्होंने इस गठबंधन के लिए पूरी प्रेस कांफ्रेंस में मायावती का पांच बार शुक्रिया किया.
 
अखिलेश यादव ने कहा कि बहुजन समाज पार्टी से अगर हमें दो कदम पीछे भी हटना पड़ेगा तो हम हटेंगे और बीजेपी को कड़ा जवाब देंगे. आदरणीय मायावती का सम्‍मान मेरा सम्‍मान है और अगर कोई भी मायावती जी का अपमान करता है तो वो मेरा अपमान होगा. हमें संयम और धैर्य से काम लेना है. बीजेपी के हर षड्यंत्र को बेकार करना है.