National

दो सांसदों वाली पार्टी आज देश की सत्ता पर काबिज है : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भाजपा राष्ट्रिय अधिवेशन 

दो सांसदों वाली पार्टी आज देश की सत्ता पर काबिज है : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भाजपा राष्ट्रिय अधिवेशन 

भाजपा के दो दिवसीय अधिवेशन के समापन सत्र में शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कार्यकर्ताओं को संबोधित किया. भारतीय जनता पार्टी के महाधिवेशन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि कभी दो कमरों में चलने वाली पार्टी आज महाधिवेशन कर रही है, यह गर्व की बात है. स्वामी विवेकानंद ने कहा था कि हर राष्ट्र की एक नियति होती, हर राष्ट्र का एक ध्येय होता है. इसलिए हम भारतीयों को भी उस ध्येय को हासिल करना है. भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता सौभाग्यशाली हैं कि हमें पहले दिन से ही इसकी शिक्षा मिली है.

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को याद करते हुए पीएम मोदी ने कहा, "ये राष्ट्रीय कार्यकारिणी की पहली बैठक है, जो अटलजी के बिना हुई है.आज उन्हें भाजपा कार्यकर्ताओं के समर्पण से संतोष हो रहा होगा. बीते वर्ष भाजपा के जिन कार्यकर्ताओं को विरोधियों की राजनीतिक हिंसा की वजह से जान गंवानी पड़ी, उनके परिवारों के प्रति भी मैं संवेदना व्यक्ति करता हूं."

 बैठक को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि दो सांसदों वाली पार्टी आज विशाल रूप में है और देश की सत्ता पर काबिज है. उन्होंने कहा कि 16 राज्यों में हम सरकार या सरकार में शामिल हैं. कार्यर्ताओं से आह्वान करते हुए उन्होंने कहा कि आज भाजपा को हर घर तक पहुंचाने की जरूरत है और हमें अटल जी की परिपाटी को मजबूत करना है.

पीएम ने कहा कि देश के इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ है जब सरकार पर भ्रष्टाचार का एक भी आरोप नहीं लगा है. हम इस पर गर्व कर सकते हैं कि हमपर एक भी दाग नहीं लगा है. इससे पहले की सरकार ने साल 2004 से 2014 तक साल में देश को घोटालों और भ्रष्टाचार में डूबो दिया. देश की आजादी के बाद अगर सरदार पटेल प्रधानमंत्री बनते तो देश की तस्वीर कुछ और होती. उसी तरह 2000 के चुनावों के बाद अटल बिहारी प्रधानमंत्री बने होते तो देश कहीं और होता. अब हमारी सरकार ने देश का आत्मविश्वास लौटाने का काम किया है.

 उन्होंने कहा कि जिन पार्टियों का जन्म कांग्रेस विरोध से हुआ, वही पार्टियां आज एकजुट हो रहीं हैं. आज जब कांग्रेस रसातल में है, भ्रष्टाचार में डूबी है, उसके नेता जमानत पर हैं तो ये कांग्रेस से अलग हुए दल उसी कांग्रेस के सामने समर्पण कर रहे हैं. मतदाताओं ने आपको कांग्रेस का विकल्प बनाने की कोशिश की, आप उन्हीं से धोखा कर रहे हैं. मोदी ने कहा- विपक्षी मिलकर मजबूर सरकार बनाना चाहते हैं, लेकिन देश चाहता है कि मजबूत सरकार बने.

मोदी ने कहा, ‘‘तेलंगाना में गठबंधन फेल हो गया. कर्नाटक में गठबंधन की पहली सरकार वाले मुख्यमंत्री कह रहे हैं कि मुझे सीएम की बजाय क्लर्क मास्टर बनाकर रख दिया है. राजस्थान और मध्यप्रदेश में दो टूक बात हो रही है कि सरकार चलानी है तो पहले ये केस वापस लो, ये काम करो. तब चला पाओगे. अभी तो यह ट्रेलर है. यह पहला अवसर है जब एक व्यक्ति के विरोध में सब एकजुट हो रहे हैं. ये सारे मिलकर अब देश में एक मजबूर सरकार बनाने में जुट गए हैं, वे नहीं चाहते हैं कि देश में मजबूत सरकार बने और उनकी दुकान बंद हो जाए.''

पीएम मोदी ने कहा कि इतनी संख्या में स्वेच्छा से गैस सब्सिडी छोड़ना, रेल टिकट पर सब्सिडी छोड़ना, इतनी संख्या में टैक्स चुकाने के लिए स्वेच्छा से आगे आना ये बड़ी बात है. जनता के मन में विश्वास आया है कि उनके टैक्स की पाई-पाई को राष्ट्र निर्माण में खर्च किया जा रहा है. बीजेपी ने साबित कर दिया है कि राष्ट्रहित में जब बड़े से बड़े फैसले लिए जाते हैं तो देशवासी उनका साथ देते हैं.

भारतीय जनता पार्टी की सरकार सिर्फ और सिर्फ विकास के मार्ग पर चल रही है. हमारा एक ही लक्ष्य है सबका साथ सबका विकास. साथ ही हमारा लक्ष्य है एक भारत श्रेष्ठ भारत. पीएम मोदी ने कहा कि सबका विकास के नारे को न केवल सरकार बल्कि जनभागीदारी से पूरा करना है. यही हमारी कार्य संस्कृति रही है.

उन्होंने कहा कि आर्थिक रूप से पिछड़े लोगों को 10 फीसदी आरक्षण का फैसला समानता दिलाने का एक प्रयास है. यह उन गरीबों के लिए है जिन्हें जाति के आधार पर नजरअंदाज कर दिया जाता था. मैं स्पष्ट कर देता हूं कि पहले से जिन्हें आरक्षण मिल रहा है उसमें किसी भी तरह की छेड़छाड़ नहीं किया जा सकता है. इससे अलग आर्थिक आधार पर उच्च जाति के गरीब लोगों को आरक्षण दिया जा रहा है. पीएम मोदी ने स्पष्ट किया कि इससे किसी के अधिकार को छिना नहीं जाएगा. कुछ लोग आरक्षण की आड़ में साजिश रच रहे हैं.

पीएम मोदी ने कहा कि 21वीं सदी में हमारी युवा शक्ति सबसे बड़ी ताकत है. आज का युवा जानता है कि हर परिस्थिति में सरकार उनके साथ खड़ी है. युवा आज राष्ट्रभक्ति की भावना दर्शाने में हिचकता नहीं है. देश में टैलेंट की कभी कमी नहीं रही. हमारी सरकार ने उचित कदम उठाए, जिसका फायदा दिख रहा है.

पीएम मोदी ने कहा कि पहली बार विदेशी बिचौलिए को पकड़कर विदेश से लाया गया है. अब धीरे-धीरे परतें खुल रही हैं. बिचौलिए के बचाव के लिए कांग्रेस के वकील भेजे जा रहे हैं. इनकी पोल खुल गई है तो ये गाली देने पर आमदा हैं. ये चाहे जितनी कोशिश कर लें, चौकीदार रुकने वाला नहीं है. चोर चाहे देश में हो या विदेश में ये चौकीदार किसी को भी नहीं छोड़ेगा.

पीएम ने कहा कि संसद में जब राफेल पर चर्चा हो रही थी तो हमारे एक साथ ने उदाहरण दिया था कि अगर हम टाट की खाली बोरी खरीदने जाएं तो इसकी कीमत काफी कम होगी. वहीं अगर इस टाट की बोरी में गेहूं भर दी जाए या चावल भर दिया जाए तो इसकी कीमत बदल जाएगी.

मोदी ने कहा, ''हम संसद में एनिमी प्रॉपर्टी का एक्ट लाए, कांग्रेस और गठबंधन के साथियों ने उसका विरोध किया. हम सिटीजनशिप अमेंडमेंट बिल लेकर आए, वह फिर विरोध कर रहे हैं, हम कोर्ट के आदेश के तहत एनआरसी लेकर आए और इसका भी विरोध किया गया. हम तीन तलाक बिल लाए, विरोध किया गया.''

"अयोध्या मामले में ही देख लीजिए, कांग्रेस अपने वकीलों के माध्यम से न्याय प्रक्रिया में बाधा पहुंचाने की कोशिश कर रही है. कांग्रेस देश के मुख्य न्यायाधीश को महाभियोग से हटाने की कोशिश कर रही थी. हमें न तो कांग्रेस का यह रवैया भूलना है और न ही किसी को भूलने देना है.''

''कुछ राज्यों में सीबीआई के अफसरों को आने की और जांच की इजाजत नहीं है. इन्हें क्या डर सता रहा है? गुजरात का जब मैं सीएम था, तब 12 साल तक लगातार कांग्रेस और उसके साथियों ने हर तरीके से मुझे परेशान करने का काम किया. एक मौका नहीं छोड़ा, उनकी एक भी एजेंसी ऐसी नहीं थी, जिसने मुझे सताया न हो.''

2007 में कांग्रेस के नेता जो मंत्री थे, वह खुद गुजरात आए और चुनावी सभा में दावा किया था कि मोदी कुछ महीने के भीतर जेल चला जाएगा. विधानसभा के भीतर कुछ नेता भाषण करते थे कि मोदी जेल चला जाएगा. आपने मुंबई की स्पेशल कोर्ट का फैसला सुना होगा कि किस तरह से यूपीए सरकार का एकमात्र एजेंडा था कि मोदी को फंसाओ. अमित भाई को जेल में भी डाल दिया था. तब भी हमने ऐसा कोई नियम नहीं बनाया कि सीबीआई हमारे राज्य में घुस नहीं सकती है. हमारे पास भी सत्ता थी लेकिन हम कानून में और सत्य में विश्वास रखते थे.'

''दूसरी तरफ ये लोग है, जो अपने खुलासों से डरे हुए हैं. आज उन्हें सीबीआई स्वीकार नहीं है, कल कोई दूसरी संस्था स्वीकार नहीं होगी. सब गलत हो जाएगा. क्या हम राष्ट्र को उनके भरोसे छोड़ सकते हैं? उनकी सल्तनत के अनुरूप जो भी नहीं होगा, ये उसका विरोध करते हैं. हमें संविधान पर भरोसा है. ये लड़ाई सल्तनत और संविधान में आस्था रखने वालों के बीच की है.''

पिछली सरकारों ने किसानों को केवल मतदाता बना रखा था. हम अन्नदाता को ऊर्जादाता बना रहे हैं. हमने किसानों की हालत सुधारने के लिए लंबा रास्त चुना है. साथियों देश का किसान साक्षी है कि लागत का डेढ़ गुना एमएसपी निर्धारित करने की मांग कितने सालों से फाइलों में पड़ी थी. बीजेपी ने स्वामीनाथन की रिपोर्ट को लागू करवाया. किसानों से अनाज की खरीद को लेकर हम गंभीरता से काम कर रहे हैं. कुछ साल पहले तक दाल की कीमतों को लेकर हल्ला मचाया जाता था, लेकिन हमारी सरकार आने के बाद दाल की बढ़ी कीमतों की लेकर टीवी पर ब्रेकिंग न्यूज नहीं बनते हैं.

पीएम मोदी ने कहा कि पिछली सरकार ने अपने आखिरी के पांच वर्षों में 5 लाख मीट्रिक टन दाल और तिलहन की खरीद की. हमने साढ़े चार साल में 95 लाख मिट्रिक टन दाल और तिलहन सरकार ने किसानों से खरीदी की. साल 2022 तक किसान अपनी कमाई डेढ़ गुना कर लें हम इसी कोशिश में जुटे हैं. बीजेपी में संस्कार दिया जाता है, देश से बड़ा दल और दल से बड़ा राष्ट्र. देश में गैस सिलेंडर पहले से ही बंटते रहे हैं, ऑनलाइन रेल टिकट पहले भी कटते रहे हैं, सड़कें पहले भी बनती रही हैं, लेकिन इसमें अभूतपूर्व तेजी आई है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि देश की आजादी से लेकर साल 2008 तक बैंकों ने 18 लाख करोड़ का लोन दिया था, वहीं कांग्रेस शासन के आखिरी शाषण काल में 12 लाख करोड़ रुपए लोन दे दिया गया. इन छह साल में कांग्रेस लोन प्रोसेस से बैंकों पर लोन देने के लिए दबाव बनाया जाता था. कॉमन प्रोसेस में 10-20 लाख रुपए लोन मिलते थे, जबकि कांग्रेस के नामदारों के फोन पर अरबों रुपए लोन बिना किसी तरह की पूछताछ के दे दिए जाते थे. हमने कांग्रेस प्रोसेस लोन व्यवस्था को बंद किया है. हमारे प्रयास से बैंकों का तीन लाख करोड़ रुपए वापस आ गया है.